Saturday, September 26, 2020

जानिए नागपंचमी कैसे और क्यों मनाते है, क्या है इसके पीछे की कहानी | Nag Panchami 2020

नागपंचमी को सही से मनाने का ये है सही तरीका, भोलेनाथ को सावन में इस दिन होते है खुश। आगे पढे Naag panchami Ko manane ka sahi tarika in Hindi | Sawan Rakshabandhan se pahale ki Nagpanchami Ki Kahani भगवान शिव को सांपों का देवता माना जाता है। इसलिए नागपंचमी के दिन भूलकर भी जीवित सांप की नहीं बल्कि नागदेवता की प्रतिमा की पूजा करनी चाहिए। नागपंचमी के पीछे की ये है पौराणिक कथा | nag panchami ki katha in Hindi

जानिए सावन में शिव चालीसा पढनें के लाभ, ऐसे पूजा करनें से खुश होते है भोलेनाथ

shiv chalisa

शिव चालीसा के सस्स्वर पाठ से मुश्किल काम को बहुत ही आसान किया जा सकता है। जाननें क लिए आगे पढिए। भगवान शिव चालीसा का श्रावण मास में करें 40 बार पाठ, ऐसे सरल विधि से करें पाठ और देंखें लाभ कितनी बार और कैसे करें शिव चालीसा का पाठ | kaise, aur kitani bar karain shiv chalisha ka path भक्तों को पाठ करने से पहले गाय के घी का दिया जलाएं और एक कलश में शुद्ध जल भरकर रखें। शिव चालीसा का 3,5,11 या फिर 40 बार पाठ करें।शिव चालीसा का पाठ बोल बोलकर करें जितने लोगों को यह सुनाई देगा उनको भी लाभ होगा। शिव चालीसा आरम्भ जय गिरिजा पति दीन दयाला। सदा करत सन्तन प्रतिपाला॥ भाल चन्द्रमा सोहत नीके। कानन कुण्डल नागफनी के॥ अंग गौर शिर गंग बहाये। मुण्डमाल तन छार लगाये॥

जानिए भोले बाबा सच में भांग पीते थे या नही, क्या है इसके पीछे की सच्चाई

शिव भगवान क्या वास्तव में भांग, चिलम पीते थे, क्या शंकर भगवान नशा करते थे। आगे पढिए Kya bhagwan Shiv Sach main bhang ya chilam peete the in Hindi full Story भगवान शिव भांग पीते थे, कई भक्तों ने भगवान शिव की ऐसी तस्वीरें बनाई हैं, जिसमें वह चिलम पीते हुए दिखाई दे रहे हैं। यह वास्तव में निंदनीय है। आइए जानते हैं समाज में प्रचलित धारणा।

जानिए क्यों भगवान कृष्ण नें राधा से नहीं की शादी, वजह जानकर हैरान रह जायेंगे आप

Radha krishana Love TrendingExpress

कृष्ण ने राधा से शादी क्यों नहीं की? राधा और कृष्ण विवाह बंधन में नहीं बंधे, यह जानने के लिए आगे पढ़ें। जब लोग ब्रज भूमि पर जाते हैं, तो राधे राधे के मंत्र उनके कानों में गूंजते हैं। राधा और कृष्ण की प्रेम कहानी सबसे महान समय में से एक है। मथुरा श्री कृष्ण जन्म भूमि है, जिसका अर्थ है Lord Krishna भगवान कृष्ण का जन्म। और पृथ्वी लोक में रहने के दौरान, श्री कृष्ण ने राधा से शादी नहीं की। श्रीधामा के शाप के कारण राधा और कृष्ण अलग हो गए थे।