Abhyudaya Coaching, perfect Yogi Adityanath stock photos and editorial news pictures HD

राज्य कानून आयोग ने प्रस्तावित कानून का मसौदा सौंपा, प्रस्तावित कानून के किसी भी प्रावधान के उल्लंघन के मामले में तीन साल तक की सजा और जुर्माना।

राज्य विधि आयोग ने मुख्यमंत्री को प्रस्तावित कानून का एक प्रारूप प्रस्तुत किया

उत्तर प्रदेश में सार्वजनिक स्थानों पर मंदिरों, मस्जिदों, मकबरों और अन्य धार्मिक संरचनाओं का निर्माण करके सार्वजनिक भूमि पर कब्जा करने वालों को तीन साल तक की सजा और जुर्माना हो सकता है।

राज्य के विधि आयोग ने शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को इस विषय पर प्रस्तावित कानून का मसौदा सौंपा।

आयोग ने कहा है कि कार्यकारी आदेश जारी करने से समस्या का समाधान नहीं होगा, लेकिन इसमें राजस्थान और मध्य प्रदेश सरकारों द्वारा किए गए दंडों की व्यवस्था करके अलग कानून बनाया जाना चाहिए।

यह नया कानून इस तरह से तैयार होगा

आयोग ने इस विषय पर उच्चतम न्यायालय, उच्च न्यायालय और अन्य न्यायालयों के अधिनियमों, नियमों और नीतियों का अध्ययन किया और यूपी, एमपी, राजस्थान, बिहार, आंध्र प्रदेश, सिक्किम, उत्तराखंड, गोवा, हिमाचल प्रदेश व त्रिपुरा के अधिनियमों, नियमों और नीतियों का अध्ययन किया। कानून बनाने के लिए एक रिपोर्ट तैयार की गई है।

प्रस्तावित कानून का मसौदा मुख्यमंत्री को सौंप दिया गया था।

आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति एएन मित्तल ने इस रिपोर्ट के साथ मुख्यमंत्री को प्रस्तावित कानून का मसौदा सौंपा।

प्रस्तावित कानून का मसौदा यह भी प्रदान करता है

कि होली, मुहर्रम आदि के अवसरों पर साइटों का उपयोग सार्वजनिक स्थान पर धार्मिक भवन के रूप में नहीं किया जाएगा।

मसौदे में कहा गया है कि प्रस्तावित कानून के किसी प्रावधान के उल्लंघन के मामले में तीन साल तक की सजा और जुर्माना लगाया जा सकता है।

Share this information with your friends | Facebook, WhatsApp, Twitter etc.

Posted by: Manoj Kumar

Download links are giving below:-

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here