सरकार आसमान से दवा का छिड़काव करने की योजना बना रही है, जिसका असर छोटे बच्चों, बुजुर्गों और जानवरों पर पड़ सकता है।

केंद्र या राज्य सरकार की तरफ से हवा air में किसी दवा Medicine के छिड़काव की कोई योजना नहीं बनाई गई है और न ही ऐसा किया गया है।

Corona Virus (COVID-19) के बढ़ते संक्रमण Infection को रोकने के लिए लोगों से घरों में रहने की सरकार की अपील के बाद Social Media पर 1 Video तेजी से वायरल viral हो रहा है।

जिसमें लोगों से घरों में रहने की अपील करते हुए दावा किया गया है कि सरकार आसमान से दवा Medicine का छिड़काव करने की योजना बना रही है, जिसका असर छोटे बच्चों Children, बुजुर्गों और जानवरों Animals पर पड़ सकता है।

क्या सच है कि हवा में दवा का छिडकाव किया गया हैॆ। No medicine will be sprayed in the air to kill corona virus

एक न्यूज रिपोर्ट के मुताबिक यह दावा झूठ है। केंद्र या राज्य सरकार की तरफ से हवा में किसी दवा के छिड़काव की कोई योजना नहीं बनाई गई है और न ही ऐसा किया गया है। इस दावे के साथ वायरल हो रहा वीडियो सैन्य समारोह के दौरान दिखाए जाने वाले करतब का है।

क्या है Corona ki dava ke chidkao ke viral video aur post main वायरल पोस्ट में

Facebook User फेसबुक यूजर ‘Ogg Olivia’ ने वीडियो को शेयर करते हुए लिखा है,

”कल यही दवा छिड़काव होगा पूरा भारत मे ओर इसका असर छोटे छोटे बचो ओर 50 साल से ऊपर बुजुर्गो पर पड़ सकता है इसलिए सभी अपने अपने घरों के अंदर ही रहे और इसका जानकारी दुसरो को भी दे (जय हिन्द)साथियो।”

Ogg Olivia

पड़ताल किए जाने तक इस वीडियो को करीब 800 से अधिक यूजर्स शेयर कर चुके हैं, जबकि इसे 8,000 से अधिक लोग देख चुके हैं। सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर इस वीडियो को लोग समान और मिलते-जुलते दावे के साथ शेयर कर रहे हैं।

क्या है Preventing Spread of Corona virus Disease 2019 Corona की दवा के छिडकाव के वीडियो क सच

वायरल वीडियो में एक हेलिकॉप्टर को देखा जा सकता है, जिसमें रस्सी से लटके हुए कुछ जवान नजर आ रहे हैं। InVid की मदद से वीडियो के की-फ्रेम्स को हमने रिवर्स इमेज किया। यांडेक्स सर्च में हमें ऐसे कई यूजर्स के वीडियो मिले, जिसमें समान वीडियो का इस्तेमाल किया गया है।

यूट्यूब चैनल ‘INDIAN Aditya Reddy’ ने 4 दिसंबर 2018 को इस वीडियो को अपलोड किया है। दी गई जानकारी के मुताबिक, ‘यह वीडियो 4 दिसंबर 2018 को विशाखापत्तनम में भारतीय नौसेना दिवस के मौके पर हुए कार्यक्रम का है।’

You should read these articles-

Facebook approved it false report

Fact-Checking on Facebook: What Publishers Should Know

We’re committed to fighting the spread of false news on Facebook and Instagram. In certain countries and regions we work with third-party fact-checkers who are certified through the non-partisan International Fact-Checking Network to help identify and review false news.

HOW DO WE REDUCE THE DISTRIBUTION OF FALSE NEWS

Identifying false news: we identify news that may be false using signs like feedback from people on Facebook. Fact-checkers may also identify stories to review on their own.

Reviewing content: fact-checkers will review content, check their facts, and rate their accuracy.

Ensuring that fewer people see minsinformation: if a fact-checker rates content as false, it will appear lower in News Feed, or will be filtered out of discovery surfaces on Instagram. This significantly reduces the number of people who see it.

Taking action against repeat offenders: Pages and websites that repeatedly share false news will have some restrictions, including having their distribution reduced. They may also have their ability to monetize and advertise removed, and their ability to register as a news Page removed.

WHO (World Health Organization)

WHO के मुताबिक, कोरोना वायरस एक संक्रमित व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है। अभी तक इस वायरस के हवा के जरिए फैलने की बात साबित नहीं हुई है। WHO की वेबसाइट पर इस वायरस के फैलाव, संक्रमण और बचान से जुड़ी जानकारियों को देखा जा सकता है

Source-WHO

आपको ये जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट करके जरुर बताये| और ऐसी ही रोचक और इंट्रेस्टिंग जानकारियों के लिए Share जरुर कीजिए

Posted by: Anshika Gupta

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here