कल्याण सिंह के इस्तीफा देने के बाद स्थिति और भी भयावह हो चुकी थी, केंद्र में कांग्रेस सरकार होने के कारण कांग्रेस के नेता मनमानी पर उतारू थे।

वर्ष 1993 विधानसभा चुनाव के दौरान, इटावा में केंद्रीय मंत्री बलराम यादव की मुलायम सिंह से नहीं बनती थी।

मुलायम सिंह का 1990-92 के अयोध्या केस से क्या संम्बध, इस बारे में पूर्व डीजीपी वीपी कपूर ने एक साक्षात्कार में बताया कि तत्कालीन मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के इस्तीफा देने के बाद स्थिति और भी भयावह हो चुकी थी।

अयोध्या मामले पर वर्ष 1990 से लेकर 1992 तक कानून व्यवस्था की हालत बहुत खराब थी। उस समय मैं खुद डीजी होम गार्ड सिविल डिफेंस के रूप में लखनऊ में तैनात था। इस हालात में केंद्र सरकार को राष्ट्रपति शासन लगाना पड़ा और राज्यपाल मोती लाल बोहरा ने कमान संभाली। वीपी कपूर का मानना हैं कि अयोध्या मामले पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला अब तक का सबसे बेहतरीन फैसला है।

उन्होंने ये भी कहा कि अयोध्या में माहौल गर्म होने के बाद दिसंबर 1993 में चुनाव हुआ। 4 दिसंबर 1993 को मुलायम सिंह यादव के नेतृत्व में सरकार बनी। यह पूरा चुनाव में प्रदेश में बिना किसी भी प्रकार की घटना हुए संपन्न कराया।

वीपी कपूर ने साक्षात्कार में कहा कि नई सरकार का गठन होते ही मैंने खुद पद छोड़ दिल्ली जाने की बात कही थी, क्योंकि मुझे पता था कि नई सरकार आने के बाद अपना डीजीपी और मुख्य सचिव तत्काल बदलती है, लेकिन तत्कालीन मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव ने जाने नहीं दिया।

केंद्र में कांग्रेस सरकार होने के कारण कांग्रेस के नेताओं की मनमानी

वीपी कपूर ने बताया कि केंद्र में कांग्रेस सरकार होने के कारण कांग्रेस के नेता मनमानी पर उतारू थे। उस दौरान प्रदेश के प्रभारी कांग्रेस नेता अर्जुन सिंह थे। वह बार-बार सहमत संस्था के माध्यम से अयोध्या में सरयू नदी के तट पर कार्यक्रम का दबाव राज्यपाल के माध्यम से बनवा रहे थे, लेकिन मैंने कानून व्यवस्था का हवाला देकर साफ मना कर दिया।

उधर मेरठ के कांग्रेस नेता राज्यपाल पर प्रधानमंत्री का कार्यक्रम लगवाने का दबाव बना रहे थे, लेकिन सर्किट हाउस से यह दूरी काफी थी, यह दोनों समुदाय की मिश्रित आबादी थी, किसी भी प्रकार की अप्रिय घटना को रोका नहीं जा सकता था, प्रधानमंत्री के कार्यक्रम की जिम्मेदारी डीजीपी की ही होती है, लिहाजा मना कर दिया।

इटावा में केंद्रीय मंत्री बलराम यादव की मुलायम सिंह से नहीं बनती

वीपी कपूर ने कहा कि वर्ष 1993 विधानसभा चुनाव के दौरान बड़ी चुनौती बवाल को रोकने की थी। चुनाव दौरान मैंने SP के ऊपर DIG की तैनाती कर दी, कुछ जगह एडिशनल DG बैठा दिया। उन्हें मेरी तरफ से पूरी छूट थी कि वह तत्काल कार्रवाई कर सकते थे।

चुनाव के दौरान इटावा व आजमगढ़ में बवाल की संभावना प्रबल थी, चूंकि इटावा में केंद्रीय मंत्री बलराम यादव की मुलायम सिंह से नहीं बनती थी। उधर, केंद्रीय मंत्री कल्पनाथ राय आजमगढ़ बाधित कर रहे थे। ऐसे में दोनों को चुनाव वाले डाक बंगले में बुलाकर बंद कर चाबी बीएसएफ को सौंप दी गई। मतदान प्रक्रिया पूरी होने के बाद छोड़ने को कहा गया। और उन्हें छोड दिया गया।

तो ये जानकारी आपको कैसी लगी, कमेंट करें। य़े जानकारी दोस्तों के साथ शेयर करें।

To get updates, Visit daily Trendingexpress.com

Written By: Radha Yadav

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here