15 august independence day speech in hindi language for teacher

राष्ट्रीय पर्व स्वतंत्रता दिवस अध्यापकों व विध्यार्थियों के लिए भाषण (स्पीच) हिन्दी में, Motivational Speech

15 अगस्त इंडिपेंडेंस डे स्पीच इन हिन्दी फ्री पीडीएफ | 15 august independence day speech in hindi language for teacher

आदरणीय मुख्य अतिथि महोदय, प्रधानाचार्य महोदय, उप प्रधानाचार्य महोदय, माननीय शिक्षकगण एवं प्यारे साथियों, अभिभावक और उपस्थित अन्य सभी गणमान्य लोग।

इस स्वतंत्रता दिवस के पावन अवसर पर अपने विचार व्यक्त करने का सुअवसर प्राप्त कर मुझे हर्ष की अनुभूति हो रही है। हर भारतीय के लिए स्वतंत्रता दिवस बहुत महत्व रखता है।

हम क्यों मना रहे है 15 अगस्त या स्वतंत्रता दिवस (Why we are celebrating independence Day)

हम इस वर्ष 73वां स्वतंत्रता दिवस मना रहे है। हर साल 15 अगस्त को पूरे देशभर में स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है। आज से 73 वर्ष पूर्व हम पर अंग्रेजों का शासन था। अंग्रेज व्यापार के बहाने भारत आए और धीरे-धीरे सब कुछ अपने अधीन कर लिया और हमें अपना गुलाम बना लिया था।

साल 1947 में इसी दिन भारत ब्रिटिश शासन (अंग्रेजों) से आजाद हुआ था। देश को आजादी दिलाने में कई महापुरुषों ने बलिदान दिया, अपनी जान न्योछावर कर दी। हम उन लोगों को श्रद्धांजलि देते हुए इस दिन को मनाते हैं। स्वतंत्रता दिवस भारत के राष्ट्रीय पर्वों मे से एक है।

कैसे मिली थी भारत को स्वतंत्रता | Struggle to get freedom from British Rulars

भारतीयों ने कई आंदोलन और लड़ाई लड़ने के बाद 15 अगस्त 1947 को भारत स्वतंत्र हुआ। हमारे देश के वीर योद्धाओं की वजह से आज हम स्वतंत्र हुए हैंमहात्मा गांधी (Mohandas Karamchand Gandhi) ने देश को अंग्रेजों से आजादी दिलाने में अहम भूमिका भी निभाई थी।

कैसे मनाते है 15 August स्वतंत्रता दिवस का त्योहार | 15 august independence day ka speech

अब जब देश अंग्रेजों से आजाद हो चुका है तो स्वतंत्रता दिवस के दिन हर प्रमुख संस्थान में भाषण दिए जाते हैं। स्कूलों, कॉलेजों, दफ्तरों आदि में कार्यक्रमों का आयोजन होता है, और देशभक्ति के गीत बजाए जाते हैं और लोग भाषण देते हैं।

15 August (Independence Day) पर भावुक कर देने वाली पंक्तियां हिन्दी में।

क्या समझोगे तुम इस युग में कि प्राण गवाने का डर क्या था।
कया समझोगे तुम इस दौर में की अंग्रेजो के प्रतारण का स्तर क्या था।।
क्या देखा है रातों रात, पूरे गांव का जल जाना।
क्या देखा है वो मंजर, बच्चों का भूख से मर जाना।
कहने को धरती अपनी थी, पर भोजन का न एक निवाला था।
धूप तो उगता था हर दिन, पर हर घर में अंधियारा था।

Trending Express

हम और हमारा देश, देश के लिए हमें क्या करना चाहिए

हम सभी लोग कितनें भाग्यशाली है कि हमारे पूर्वजों ने हमें शांति और खुशी की धरती दी है जहाँ हम बिना डरे पूरी रात सो सकते है, और अपने स्कूल, कोलेज, आफिस तथा घर में पूरा दिन मस्ती कर सके। हमारा देश भारत तेजी से तकनीक, शिक्षा, खेल, वित्त, और कई दूसरे क्षेत्रों में विकास कर रहा है जोकि बिना आजादी के कभी संभव ही नहीं था।

आजादी का हमें ज्यादा फायगा नही उठाना चाहिए

हमें अपनी सरकार चुनने की पूरी आजादी है एवं दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र का उपयोग कर रहे है। याद रखें हमें खुद को अपने देश के प्रति जिम्मेदारीयों से मुक्त नहीं समझना चाहिये। हमें अपनें देश के जिम्मेदार नागरिक होने के नाते, किसी भी आपातकालीन स्थिति के लिये हमें हमेशा तैयार रहना चाहिये। और देश को बचाना चाहिए।

[Speech] 26 जनवरी (गणतंत्र दिवस) की स्पीच in Hindi | भाषण देने की तैयारी, यहां क्लिक करें

आज 15 August (Independence Day) के शुभ अवसर पर आपको संबोधित करते हुए उन सभी महान आत्माओं को मेरा शत्-शत् प्रणाम और श्रद्धाजंली। अब मैं अपनी इन बातों को विराम देता हूँ, आप सबका बहुत-बहुत धन्यवाद।

भारत माता की जय…. जय हिन्द….जय भारत

Posted by: Anshika Gupta

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here